Ticker

6/recent/ticker-posts

YOGA FOR IMMUNITY BOOST:-


इम्यून सिस्टम क्या है/What is the Immune System:-

मौसम ठंडा होने लगा है सर्दी और फ्लू जैसी बीमारिया बढ़ रही है  कोरोना बीमारी तो बढ़ रही है जिसको विश्व महामारी घोषित किया हैसरकार इसके टीके की खोज‌ कर रही है।

इस महामारी से सुरक्षित रहना है और आपको बीमार होने से बचना हैयोग, आसन और अन्य तरीकों का उपयोग करने से अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वाभाविक रूप से बढ़ावा दें सकते


योग से प्रतिरक्षा तंत्र मजबूत होता है/Yoga strengthens the immune system:-

योगा करने से एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली पा सकते है, योगा वायरस व बीमारी से लड़ने तथा उनका रोकथाम करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली प्रबलित करता है।

जब प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर रूप से कार्य नहीं कर रहा होता हैतो शरीर बीमारीसंक्रमण के अधीन हो जाता है और स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न हो जाती

योगा करने से सांस लेने की तकनीक दूर कर सकते हैं तंत्रिका तंत्र को मज़बूत करने में मदद और एक प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ा सकते हैदोनों सीधे दिखाया गया है,



प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए इन 5 योगा

जब ठंड और फ्लू का मौसम कठिन हो जाए तो अपने शरीर की मदद करने के लिए प्रतिरक्षा के लिए पाँच योग


1. सुखासन योगा:-

सुखास्ना  शरीर के स्वस्थ्य, प्राणायाम और ध्यान लगाने के लिए आरामदायक स्थिति है, यह योगा शरीर को बहुत लोग मुक्त करता है। अंततः सभी आसन व योग शरीर को स्वस्थ रखते,

  कैसे करें:-

पालथी मार कर बैठे इस स्थिति में बैठने से योगा को करेंगे तो एक सक्षम आसन कर सकेंगे यह शरीर के लिए सहज महसूस करने के लिए किया जाता है। यह आसन योग प्रक्रिया को अपने नैतिक जीवन साथ लेकर चलने से शरीर को और आपको अपने आध्यात्मिक पक्ष के संपर्क में आने में मदद करता है 

रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। अपने हाथों को घुटनों पर रखेंगे। और हाथों को सीधा रखेंगे, अपने शरीर को आराम दें और धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें।

2. ताड़ासन योगा:-

ताड़ासन योगा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होता है, इसको पर्वत आसन भी कहा जाता है। ये आसन दृढ़ता के साथ खड़े होना सिखाती है। इसमें मांसपेशियों के प्रमुख समूह शामिल होते हैं और मन के एकात्र करने में सहायक है।

कैसे करें:-

इस योग में अपने को मिला कर या अपनी एड़ियों के बीच में थोड़ा जगह रहें और अपनी बाहों को लटकाएं, धीरे से अपने पैर की उंगलियों और पैरों को उठाएं और फैलाएं

अपने हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और उंगलियों को फंसा कर हथेलियों को ऊपर रखें

पने शरीर के वजन को अपने पैरों पर संतुलित करें।अपनी एड़ियों को उठाएं और उन्हें अंदर की ओर घुमाते हैं, तो इससे जांघ की मांसपेशियों को मजबूत होती हैं। 

जब आप साँस लेते हैंतो अपने धड़ को लम्बा करलें और जब आप साँस छोड़ते हैं तो आपके कंधे आपके सिर से दूर हो जाते हैं  और इस योगा से आपके पैर और पीठ को मजबूत होती है



3. वृक्षासन योगा:-

यह योग आपको चेतना के साथ साथ नयी ऊर्जा का एहसास देता है।यह आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाता है और आपके पैर और पीठ को मजबूत बनाता है  यह योगा एक पेड़ के जैसी स्थित का होता है। 

कैसे करें:-

इस योग को करने के लिए दाहिने पैर को अपनी बाईं जांघ पर ऊचाई पर रखें, पैर मजबूती से रखा होना चाहिए बाएं पैर को सीधा रखें और अपना संतुलन बनाए रखें

 साँस लेते समय सिर पर अपनी बाहों को उठाएं और अपनी हथेलियों को एक साथ ले जाएं। 

यह योगा करते समय आप की रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए है और साथ में गहरी सांस लें। 

और धीरे -धीरे सांस छोडते हुए हाथों को नीचे लाएं और अपने दाहिने पैर को छोड़ दें और इस तरह खड़े खड़े इसको दूसरे पैर के साथ भी दोहराएं।


4. अधोमुख श्र्वानासन:- 

यह योगा शरीर में प्राकृतिक ऊर्जा को प्रदान करता है,  यह आसन विज्ञान के अनुसार सिर में रक्त प्रवाह अच्छा होता है और इस योगा के करने बाद शरीर में एक नई शक्ति होने का अहसास करेंगे

जैसे कुत्ते अपने शरीर की थकावट दूर करने के लिए स्ट्रेचिंग करते हैं, और स्ट्रेचिंग शरीर के लिए आरामदायक होती है।

कैसे करें:-

पहले घुटनों के बल बैठे और हाथों को जमीन पर रखें और पीठ सीधी रखें।अपनी बाहों को चटाई पर आगे बढ़ाएं, सांस छोड़ते हुए कूल्हों को उठाएं, और कोहनी और घुटनों को सीधा रखें, यह आसन करते समय शरीर उल्टा 'V' तरह बन जाएगा, गहरी सांस लेकर सांस को कुछ सेकेंड तक रुकें बाद में घुटनों को मोड़कर साधारण स्थित में आ जाए।


5. पश्चिमोत्तानासन योगा:-

यह योगा करते हुए शरीर के पिछले हिस्से रीढ़ की हड्डी में खिंचाव महसूस होता हैं। और इसी कारण इसे पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है इस आसन को करने से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिलेगी और शरीर का स्वस्थय ठीक रहेगा

कैसे करें:-

इस योगा को करने के लिए जमीन पर पैरों को सीधा फैला कर बैठ जाए पैर सीधे रहने चाहिए पैरों के बीच में जगह न रहे, रीढ़ की हड्डी सीधी रहनी है हथेलियों को पैरों के ऊपर रखें। धीरे धीरे शरीर को आगे की ओर झुकाएं साथ ही घुटने न मुड़े, और हाथों की अंगुलियों से पैरों की अंगुलियों को छुने की कोशिश करें। सांस को छोड़कर इस अवस्था में कुछ देर तक रुकें। और धीरे-धीरे पहली वाली अवस्था में आ जाए।

निष्कर्ष:- योग करने से शरीर को एक नई ऊर्जा प्राप्त होती है। और अन्तरिक शक्ति बढ़ती है।


Post a Comment

4 Comments

  1. It's an excellent article you've written here about benefits of Yoga. Your article provided me with some unique and useful knowledge. Thank you for bringing this post to our attention. 200 hour yoga teacher training in India

    ReplyDelete
  2. merit casino【VIP】casino games on osterlabs - Xn
    osterlabs is a platform for players to access casino 온카지노 games for free. 메리트카지노총판 Top 5 best casino games to play and win real money online. Rating: 바카라 사이트 3.9 · ‎5 reviews

    ReplyDelete
  3. Merkur Futur Adjustable Safety Razor - Sears
    Merkur Futur casino-roll.com Adjustable goyangfc Safety Razor is communitykhabar the perfect balance of performance, safety, and comfort. Made gri-go.com in Solingen, https://septcasino.com/review/merit-casino/ Germany, this razor has a perfect balance of

    ReplyDelete