Ticker

6/recent/ticker-posts

Yoga Poses

Basic Yoga Poses.

योग एक सही जीवन जीने की कला है और इसके लिए इसे अपने जीवन में शामिल किया जाना चाहिए। जो हमारे जीवन से जुड़े भौतिक, मानसिक, भावनात्मक, आत्मिक और आध्यात्मिक, आदि सभी अक्रतियो पर काम करता है। योग का अर्थ एक साधना है

 योग आसन, प्राणायाम, मुद्रा, बँध, षट्कर्म और ध्यान के अभ्यास करने से शरीर को एक नई ऊर्जा प्राप्त होती है। और  योग जीने का एक सरल कला भी है और अपने आप में परम उद्देश्य भी है।
योग शरीर के बाहरी और अन्तरिक शक्ति को बङाने का कार्य करता हैं,
 योग शरीर के मानसिक और भावनात्मक स्तरों पर काम करता है। जो जिंदगी मे तनाव और  मानसिक परेशानियों को दूर करता हैं। इस लिए योग जीवन मे बहुत ही महत्वपूर्ण है।

Type of Yoga Poses:-


1. सुखासन योगा:-

सुखास्ना  शरीर के स्वस्थ्य, प्राणायाम और ध्यान लगाने के लिए आरामदायक स्थिति है, यह योगा शरीर को बहुत लोग मुक्त करता है। अंततः सभी आसन व योग शरीर को स्वस्थ रखते,

  कैसे करें:-

पालथी मार कर बैठे इस स्थिति में बैठने से योगा को करेंगे तो एक सक्षम आसन कर सकेंगे.यह शरीर के लिए सहज महसूस करने के लिए किया जाता है। यह आसन योग प्रक्रिया को अपने नैतिक जीवन साथ लेकर चलने से शरीर को और आपको अपने आध्यात्मिक पक्ष के संपर्क में आने में मदद करता है 

रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। अपने हाथों को घुटनों पर रखेंगे। और हाथों को सीधा रखेंगे, अपने शरीर को आराम दें और धीरे-धीरे सांस लें और छोड़ें।

2. ताड़ासन योगा:-

ताड़ासन योगा शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में सहायक होता है, इसको पर्वत आसन भी कहा जाता है। ये आसन दृढ़ता के साथ खड़े होना सिखाती है। इसमें मांसपेशियों के प्रमुख समूह शामिल होते हैं और मन के एकात्र करने में सहायक है।

कैसे करें:-

इस योग में अपने को मिला कर या अपनी एड़ियों के बीच में थोड़ा जगह रहें और अपनी बाहों को लटकाएं, धीरे से अपने पैर की उंगलियों और पैरों को उठाएं और फैलाएं

अपने हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और उंगलियों को फंसा कर हथेलियों को ऊपर रखें

पने शरीर के वजन को अपने पैरों पर संतुलित करें।अपनी एड़ियों को उठाएं और उन्हें अंदर की ओर घुमाते हैं, तो इससे जांघ की मांसपेशियों को मजबूत होती हैं। 

जब आप साँस लेते हैंतो अपने धड़ को लम्बा करलें और जब आप साँस छोड़ते हैं तो आपके कंधे आपके सिर से दूर हो जाते हैं  और इस योगा से आपके पैर और पीठ को मजबूत होती है



3. वृक्षासन योगा:-

यह योग आपको चेतना के साथ साथ नयी ऊर्जा का एहसास देता है।यह आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाता है और आपके पैर और पीठ को मजबूत बनाता है  यह योगा एक पेड़ के जैसी स्थित का होता है। 

कैसे करें:-

इस योग को करने के लिए दाहिने पैर को अपनी बाईं जांघ पर ऊचाई पर रखें, पैर मजबूती से रखा होना चाहिए बाएं पैर को सीधा रखें और अपना संतुलन बनाए रखें

 साँस लेते समय सिर पर अपनी बाहों को उठाएं और अपनी हथेलियों को एक साथ ले जाएं। 

यह योगा करते समय आप की रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए है और साथ में गहरी सांस लें। 

और धीरे -धीरे सांस छोडते हुए हाथों को नीचे लाएं और अपने दाहिने पैर को छोड़ दें और इस तरह खड़े खड़े इसको दूसरे पैर के साथ भी दोहराएं।


4. अधोमुख श्र्वानासन:- 

यह योगा शरीर में प्राकृतिक ऊर्जा को प्रदान करता है,  यह आसन विज्ञान के अनुसार सिर में रक्त प्रवाह अच्छा होता है और इस योगा के करने बाद शरीर में एक नई शक्ति होने का अहसास करेंगे

जैसे कुत्ते अपने शरीर की थकावट दूर करने के लिए स्ट्रेचिंग करते हैं, और स्ट्रेचिंग शरीर के लिए आरामदायक होती है।

कैसे करें:-

पहले घुटनों के बल बैठे और हाथों को जमीन पर रखें और पीठ सीधी रखें।अपनी बाहों को चटाई पर आगे बढ़ाएं, सांस छोड़ते हुए कूल्हों को उठाएं, और कोहनी और घुटनों को सीधा रखें, यह आसन करते समय शरीर उल्टा 'V' तरह बन जाएगा, गहरी सांस लेकर सांस को कुछ सेकेंड तक रुकें बाद में घुटनों को मोड़कर साधारण स्थित में आ जाए।


5. पश्चिमोत्तानासन योगा:-

यह योगा करते हुए शरीर के पिछले हिस्से रीढ़ की हड्डी में खिंचाव महसूस होता हैं। और इसी कारण इसे पश्चिमोत्तानासन कहा जाता है इस आसन को करने से शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूती मिलेगी और शरीर का स्वस्थय ठीक रहेगा

कैसे करें:-

इस योगा को करने के लिए जमीन पर पैरों को सीधा फैला कर बैठ जाए पैर सीधे रहने चाहिए पैरों के बीच में जगह न रहे, रीढ़ की हड्डी सीधी रहनी है हथेलियों को पैरों के ऊपर रखें। धीरे धीरे शरीर को आगे की ओर झुकाएं साथ ही घुटने न मुड़े, और हाथों की अंगुलियों से पैरों की अंगुलियों को छुने की कोशिश करें। सांस को छोड़कर इस अवस्था में कुछ देर तक रुकें। और धीरे-धीरे पहली वाली अवस्था में आ जाए।



Post a Comment

0 Comments